सैमसंग का इतिहास

सैमसंग का इतिहास


सैमसंग दक्षिण कोरिया की मल्टीनेशनल कंपनी है. इसका हेड क्वार्टर सीओल में है | सैमसंग जिसे हम एक मोबाइल बनाने वाली कंपनी के नाम से ज्यादा जानते है, का बिज़नस मोबाइल से भी बहुत आगे है | लेकिंग इसका ज्यादातर काम इलेक्ट्रॉनिक्स का है, उद्योग का है, और रक्षा से सम्बंधित सामान बनाने से है | इसके आलावा सैमसंग बीमा , विज्ञापन और मनोरंजन उद्योग में भी सक्रिय है | कोरिया में सैमसंग एक बहुत बड़ी कंपनी है और इसका अंदाज़ा हम इस बात से लगा सकते है की कोरिया का बीस प्रतिशत निर्यात सैमसंग करता है |

सैमसंग को 1938 में ली बयुंग-चुल्ल ने एक व्यापार संस्था के रूप में बनाया था | तब सैमसंग राशन से सम्बंधित सामान ही बनाती थी | कंपनी धीरे धीरे बढ़ती जा रही थी और सीओल तक पहुँच गयी थी लेकिन 1947 में कोरिया की लड़ाई में कंपनी थोड़ी सुस्त पद गयी | लड़ाई के बाद ली ने सैमसंग को कपडा उद्योग के साथ जोड़ा और कोरिया में कपडे की बहुत बड़ी मिल लगाई.

इस तरह से समय समय पर सैमसंग ने अपने उद्योगों का विस्तार किया और कोरिया को भी आगे बढ़ने में मदद करी | 1960 में सैमसंग ने इलेक्ट्रॉनिक्स का सामान बनाना चालू किया और इलेक्ट्रॉनिक्स बनाने के साथ साथ सेमीकंडक्टर बनाने भी चालू किये|

सैमसंग ने शुरुआत की सुवन नाम के शहर से जो की दक्षिण कोरिया में है , और वहा से सैमसंग ने ब्लैक एंड वाइट टीवी बनाने की शुरुआत की |

1980 में सैमसंग ने फ़ोन की दुनिया में कदम रखा और हांगुक जेंजा तोंगझीन नाम की कंपनी को खरीदा| शुरुआत में सैमसंग ने फ़ोन के स्वीचबोर्डस बनाये और कुछ हे समय में सैमसंग ने अपने फैक्स सिस्टम बनाने चालू किये और एहि से सैमसंग ने मोबाइल फ़ोन भी बनाने की शुरुआत की |


और इस तरह से मोबाइल के व्यापार को भी सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स का हिस्सा बनाया गया | मोबाइल के क्षेत्र में सैमसंग ने बहुत रिसर्च की और पैसा पानी की तरह बहाया. और इस समय तक सैमसंग पुर्तगाल, नई यॉर्क, टोक्यो, इंग्लैंड और ऑस्टिन में अपना कारोबार फैला चुका था |

1987 में सैमसंग के संस्थापक ली की मृत्यु के बाद सैमसंग को चार बिज़नस ग्रुप में बाँट गया जिसमे इलेक्ट्रॉनिक्स, इंजीनियरिंग , कंस्ट्रक्शन और तकनीक जैसे ग्रुप बने | 1990 तक सैमसंग एक अंतरराष्ट्रीय कंपनी बन चुका था

सैमसंग की निर्माण इकाई ने बहुत अच्छे निर्माण किये जिसमे से एक था पेट्रोनास टावर जो की मलेशिया में है , तायपेई 101 जो ताइवान में है और बुर्ज खलीफा जो की UAE में है | सैमसंग की इंजीनियरिंग इकाई ने विमानों के इंजन बनाने चालू किये , गैस टरबाइन बनाई और तो और जेट इंजिन्स के पार्ट भी बनाये |

1993 आते आते सैमसंग ने अपना ध्यान इलेक्ट्रॉनिक्स, निर्माण और रसायन विज्ञान पे लगना शुरू कर दिया था | और अपने दुसरे बिज़नस को बेचना शुरू कर दिया था |

इसके बाद से सैमसंग ने LCD पे बहुत काम किया और 2005 में विश्व का नंबर एक LCD बनाने वाली कंपनी बनी| और आज की तारीख में सैमसंग ने अपना ध्यान मोबाइल टेक्नोलॉजी पर लगाना भी शुरू कर दिया है | सैमसंग 2012 विश्व का नंबर एक मोबाइल बनानी वाली कंपनी बन गयी थी |

और फोन की बात है, सैमसंग फोन के वर्तमान में एक 28.8% शेयर बाजार अमेरिका में पकड़ है, एप्पल के 23% आगे है।


सैमसंग ने गैलेक्सी नोट 7, स्मार्टफोन कि आग की व्यापक रिपोर्ट के परिणाम जारी किये। कंपनी का कहना है गैलेक्सी नोट 7 की बैटरी के साथ दो अलग खामियों थी। पहली बैटरी ऊपरी दाहिने कोने में एक डिजाइन दोष का शिकार थी जिसके कारण एक शॉर्ट सर्किट हो सकता था, जबकि दूसरी बैटरी - प्रतिस्थापन इकाइयों के लिए प्रयोग में ली जाती थी दूसरी बैटरी की कुछ इकाइयों को भी इन्सुलेशन टेप से गलत तरीके से चिपकाया गया था।

सैमसंग ने 700 समर्पित कर्मचारियों से 200,000 फोन और 30,000 अतिरिक्त बैटरी का परिक्षण कराया |

सैमसंग पहले नूडल्स के निर्माण में एक ट्रेडिंग कंपनी से ज्यादा कुछ नहीं था। तब से, सैमसंग निश्चित रूप से सिर्फ नूडल बनाने का काम करती थी, जो हमें एक और दिलचस्प तथ्य लगता है लेकिन आज सैमसंग बहुत आगे निकल गयी है।

एक और मजेदार तथ्य यह है, सैमसंग की निर्माण विभाग ने बुर्ज खलीफा का निर्माण किया है, जो दुनिया में सबसे ऊंची इमारत है|

सैमसंग के पहले इलेक्ट्रॉनिक्स उत्पाद एक काले और सफेद टी वी जिसे 1970 में कंपनी ने बनाया था और 1986 में एक कार फोन के साथ मोबाइल मार्किट में प्रवेश किया|

 

Log Out ?

Are you sure you want to log out?

Press No if youwant to continue work. Press Yes to logout current user.